Translate

गुरुवार, 14 अप्रैल 2016

रवानी इश्क़ मेरा ...

किसी  की  आह  दर  तक  आ  गई  है
कि  ख़ामोशी  असर  तक  आ  गई  है

बुज़ुर्गों  ने  रखा  था  दूर  जिसको
वो  वहशत  आज  घर  तक  आ  गई  है

पड़ोसी  के  मकां  की  हर  ख़राबी
मेरे  दीवारो-दर  तक  आ  गई  है

इरादा-ए-सफ़र  की  पुख़्तगी  है
कि  मंज़िल  ख़ुद  नज़र  तक  आ  गई  है

मैं  दरिया  हूं  रवानी  इश्क़  मेरा
ये  बेताबी  बहर  तक  आ  गई  है

उठी  जो  शान  से  बर्क़े-बग़ावत 
सियासत  के  शजर  तक  आ  गई  है

उठा  कर  अस्लहे  तैयार  रहिए
यज़ीदी  फ़ौज  सर  तक  आ  गई  है  !

                                                                                     (2016)

                                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दर : द्वार ; ख़ामोशी : मौन ; असर : प्रभावोत्पादकता ; बुज़ुर्गों : पूर्वजों ; वहशत : उन्माद, पशु-वृति ; मकां : गृह ; दीवारो-दर : भित्ति एवं द्वार ; इरादा-ए-सफ़र : यात्रा का संकल्प ; पुख़्तगी : दृढ़ता ; मंज़िल : लक्ष्य ; दरिया : नदी ; रवानी : प्रवाह ; बेताबी : व्यग्रता ; बहर : समुद्र ; बर्क़े-बग़ावत : विद्रोह की तड़ित ; शजर : वृक्ष ; अस्लहे : अस्त्र-शस्त्र ; यज़ीदी फ़ौज : अरब के एक अत्याचारी, सिद्धांतविहीन शासक यज़ीद की सेना जिसने हज़रत अली अ. स. के उत्तराधिकारियों का वध किया ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-04-2016) को अति राजनीति वर्जयेत् (चर्चा अंक-2314) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं