Translate

बुधवार, 21 जून 2017

एक दिन मुक़र्रर हो...

शौक़  तो  उन्हें  भी  है  पास  में  बिठाने  का
जो  हुनर  नहीं  रखते  दूरियां   मिटाने  का

रोज़  रोज़  क्यूं  हम  भी  आपसे  पशेमां  हों
एक  दिन  मुक़र्रर  हो  रूठने-मनाने  का

आपकी  सफ़ाई  से  मुत्मईं  नहीं  हैं  हम
राज़  कोई  तो  होगा  आपके  न  आने  का

कस्रते-सियासत  हैं  दीनो-धर्म  के  झगड़े
ख़त्म   सिलसिला  कीजे  बस्तियां  जलाने  का

ख़ुदकुशी  के  सौ  सामां  शाह  ने  सजा  डाले
फ़र्ज़  अब  हमारा  है  मुल्क  को  बचाने  का

क्या  ख़बर  कि  दीवाने  कब-किसे  ख़ुदा  कर  लें
मर्ज़  है  मुरीदों  को  जूतियां  उठाने  का

जानते  नहीं  क्या  हम   आपकी  अदाओं  को
याद  बस  बहाना  है   अर्श  पर  बुलाने  का  !

                                                                                          (2017)

                                                                                    - सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: हुनर: कौशल, पशेमां: लज्जित; मुक़र्रर: निश्चित; सफ़ाई: स्पष्टीकरण; मुत्मईं: संतुष्ट;  :रहस्य; कस्रते-सियासत: राजनीतिक उठा-पटक; सिलसिला: क्रम, चलन; ख़ुदकुशी: आत्म-हत्या; सामां: सामग्रियां; फ़र्ज़: ;कर्त्तव्य; मुल्क: देश; दीवाने: उन्मत्त जन; मर्ज़: रोग; मुरीदों: भक्त जन;  अदाओं: भंगिमाओं; अर्श: आकाश।  

शनिवार, 17 जून 2017

लबों पर तबस्सुम ...

सितम  कीजिए  या   दग़ा  कीजिए
ख़ुदा  के  लिए  ख़ुश  रहा  कीजिए

दुआ  है  फ़रिश्ते  मिलें   आपको
न  हो  तो  हमीं  से  वफ़ा  कीजिए

बुरे  वक़्त  में   बेहतरी  के  लिए
लबों  पर  तबस्सुम  रखा  कीजिए

सितारे  पहुंच  से  अगर  दूर  हैं
तो  किरदार  अपना  बड़ा  कीजिए

फ़क़ीरो-शहंशाह  सब  एक  हैं
निगाहें  उठा  कर  जिया  कीजिए

न  बदलेंगे  मस्लक  किसी  हाल  में
मुरीदों  से  लिखवा  लिया  कीजिए

ज़रूरी  नहीं  आप  सज्दा  करें
सलामो-दुआ  तो  किया  कीजिए  !

                                                                     (2017)

                                                               -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: सितम: अत्याचार; दग़ा: छल;फ़रिश्ते :देवदूत;वफ़ा :निर्वाह; बेहतरी : उत्तमता; लबों : होठों; तबस्सुम : मुस्कान ; किरदार :व्यक्तित्व,चरित्र;मस्लक:पंथ;मुरीदों :भक्तजन,अनुयायी; सज्दा :साष्टांग प्रणाम;सलामो-दुआ :नमस्कार एवं शुभेच्छा।  

शनिवार, 10 जून 2017

क़ब्र की राह...

आज  मौसम  हमारा  नहीं  क्या  करें
दोस्तों  से  गुज़ारा  नहीं  क्या  करें

ज़ीस्त  ने  तो  हमें  ग़म  दिए  ही  दिए
मौत  से  भी  सहारा  नहीं  क्या  करें

तीरगी  को  मिटाना  हंसी-खेल  है
पर  शम्'.अ  का  इशारा  नहीं  क्या  करें

हर  क़दम  पर  मसाजिद  मिलेंगी  मगर
आशिक़ी  का  इदारा  नहीं  क्या  करें

जिसने  किरदार  खेला  कभी  शाह  का
फिर  मुखौटा  उतारा  नहीं  क्या  करें

रिंद  को  क़ब्र  की  राह  मंज़ूर  है
शैख़  का  घर  गवारा  नहीं  क्या  करें

आप  भी  दूर  ही  दूर  बैठे  रहे
अर्श  ने  भी  पुकारा  नहीं  क्या  करें !

                                                                                  (2017)

                                                                           -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: गुज़ारा: निर्वाह; ज़ीस्त: जीवन; तीरगी: अंधकार; शम्'.अ: दीपिका; इशारा: संकेत; मसाजिद : मस्जिदें; आशिक़ी : प्रेम; 
इदारा : संस्थान ; किरदार: पात्र, चरित्र; रिंद : पियक्कड़; क़ब्र : समाधि; शैख़: धर्म-भीरु; गवारा : स्वीकार।  





बुधवार, 7 जून 2017

ज़िक्र सदमात का ...

इबादत  न  कीजे  किसी  शाह  की
दग़ाबाज़     मक्कार    गुमराह  की

न  जाने    कहां   ले  गिरे    रहनुमा
हक़ीक़त    समझिए   नई  राह  की

किसे  दोस्त  समझें  किसे  मुस्तफ़ा
हमारी   किसी  ने   न   परवाह  की

जहां    पीर  ही  पीर  हों    बज़्म  में
वहां  क्या  ज़रूरत  है  इस्लाह  की

न  कीजे  कभी  ज़िक्र  सदमात  का
तबीयत बिगड़ती है  ख़ुश ख़्वाह  की

बहुत  तेज़  हैं    आंधियां   ज़ुल्म  की
कहीं  लौ  न  बुझ  जाए  मिस्बाह  की

ग़ज़ल   याद  रखिए  न  रखिए   मेरी
मगर   कीजिए   फ़िक्र   दरगाह  की  !

                                                                                 (2017)

                                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: इबादत : पूजा; दग़ाबाज़: विश्वासघाती; मक्कार: छल करने वाला; गुमराह: मार्गच्युत; मुस्तफ़ा: धर्मगुरु; 
रहनुमा: मार्गदर्शक; हक़ीक़त:वास्तविकता,यथार्थ; पीर:गुरु; बज़्म:सभा, जमावड़ा; इस्लाह:त्रुटि-सुधार,संशोधन; 
सदमात: आघात; ख़ुशख़्वाह: शुभचिंतक; ज़ुल्म: अत्याचार; मिस्बाह: दीपक; दरगाह : समाधि। 

मंगलवार, 6 जून 2017

कितना ख़ूं, कितना पानी...

वैसे  तो  दुनिया  फ़ानी  है
सच  के  साथ  परेशानी  है

ख़ुद्दारों  पर  दाग़  लगाना
मग़रूरों  की  नादानी  है

शाहों  से  डर  जाने  वालो
यह  रुत  भी  आनी-जानी  है

संगीनों  पर  चल  कर  जीना
ज़िद  अपनी  जानी-मानी  है

अब  जम्हूर  कहां  रक्खा  है
सरकारों  की  मनमानी  है

रैयत  उतरी  है  सड़कों  पर
हाकिम  को  क्यूं  हैरानी  है

हम  भी  देखें  किन  आंखों  में
कितना  ख़ूं  कितना  पानी  है  !

                                                                           (2017)

                                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: फ़ानी : नश्वर; ख़ुद्दारों : स्वाभिमानियों; दाग़ : दोष; मग़रूरों : घमंडियों, अहंकारियों; नादानी : अज्ञान; जम्हूर : लोकतंत्र; रैयत : नागरिक गण; हाकिम : आदेश देने वाला, शासक; ख़ूं। 

शुक्रवार, 2 जून 2017

नौजवां लुट गया ...

तलाशे-मकां  में  जहां  लुट  गया
ज़मीं  के  लिए  आस्मां  लुट  गया

अदा  सादगी  शोख़ियां  पैरहन
न  जाने  दिवाना  कहां  लुट  गया

पसोपेश  में  रह  गईं  आंधियां
सफ़ीना  इसी  दरमियां  लुट  गया

मिला  शाह  हमको  ख़ुदादाद  ख़ां
कि  सदक़े  में  हर  नौजवां  लुट  गया

रिआया  तरसती  रही  रिज़्क़  को
सियासत  में  हिन्दोस्तां  लुट  गया

कहीं  तीरगी  को  ख़ुदा  मिल  गया
कहीं  रौशनी   का  मकां  लुट  गया

रहे-मग़फ़िरत  पर  चले  थे  मगर
मेरे  पीर  का  कारवां  लुट  गया  !

                                                                      (2017)

                                                                 -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: तलाशे-मकां : घर की खोज; जहां: संसार, गृहस्थी; ज़मीं: पृथ्वी, इहलोक; आस्मां : आकाश, परलोक; अदा: भाव-भंगिमा; 
सादगी: सहजता, ऋजुता; शोख़ियां: चंचलता; पैरहन: वस्त्र-विन्यास; पसोपेश: दुविधा; सफ़ीना: नौका, जलयान; दरमियां: बीच, मध्य; ख़ुदादाद: ईश्वर दत्त, ईश्वर की देन; सदक़े: बलिहारी; रिआया: नागरिक गण; रिज़्क़: भोजन; सियासत: राजनीति; तीरगी: अंधकार; रौशनी: प्रकाश; रहे-मग़फ़िरत: मोक्ष का मार्ग; पीर: मार्गदर्शक, मनुष्य और ईश्वर का मध्यस्थ, आध्यात्मिक गुरु; कारवां: यात्री-दल।  

शनिवार, 27 मई 2017

रिंद की ज़िंदगी...

फंस  गए  शैख़  पहली  मुलाक़ात  में
सर-ब-सज्दा    पड़े  हैं   ख़राबात  में

ठीक  है  मैकदा  घर  ख़ुदा  का  नहीं
क्या  बुरा  है   यहां  भी  मुनाजात   में

शाह  मदहोश  है  तख़्त  के  ज़ो'म  में
और  लश्कर    लगे  हैं   ख़ुराफ़ात  में

ख़ूब   जम्हूरियत     ख़ूब   तेरा  अदल
रिंद  की   ज़िंदगी   भीड़  के   हाथ  में

क़ातिलों  के  लबों  पर  लहू  की  चमक
जिस  तरह  गुलमोहर  गर्म  हालात  में

मय्यते-यार  है            शान  से  आइए
जिस  तरह   लोग  आते  हैं  बारात  में

कास:-ए-वक़्त   भर  जाएगा  जल्द  ही
इस  क़दर  दर्द    पाए  हैं    ख़ैरात   में  !

                                                                           (2017)

                                                                      -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ : शैख़ :मद्य विरोधी धर्मोपदेशक; सर-ब-सज्दा : भूमि तक सर झुका कर प्रणाम की मुद्रा में; ख़राबात : मदिरालय; मैकदा :मदिरालय;मुनाजात :प्रार्थना;ज़ो'म :घमंड;लश्कर :सेना(एं); ख़ुराफ़ात : उपद्रव; जम्हूरियत : लोकतंत्र; अदल : न्याय; रिंद : मद्यप; मय्यते-यार : मित्र की शवयात्रा; क़ातिलों : हत्यारों; लबों : होठों; :लहू: रक्त; हालात : ऋतु, वातावरण, परिस्थिति; कास:-ए-वक़्त : समय  भिक्षा-पात्र; ख़ैरात : दान, भिक्षा।