Translate

शनिवार, 29 अगस्त 2015

इलाजे-बेबसी ...

ज़रा-सी    ज़िंदगी     ले  आ
किसी  दर  से  ख़ुशी  ले  आ

सियासत   की    दलीलों  में
नफ़ासत  की  नमी   ले  आ 

अना  बाहर  दिखा   अपनी
मगर  घर  में  कमी  ले  आ

अगर  ग़ैरत   बची  हो   तो
कहा  था  जो   वही  ले  आ

किसी  से  क़र्ज़  ले  कर  भी
मिज़ाजे-मुफ़लिसी  ले  आ

मरीज़े-तीरगी     है     दिल 
सफ़ूफ़े-चांदनी    ले     आ

ज़ईफ़ी    ने    सता     डाला
कहीं  से  कमसिनी  ले  आ

ख़ुदा  या  शाह,  जो  है  तू
इलाजे-बेबसी        ले  आ

मुजस्स्म  नूर  है  गर  तू
सबूते-रौशनी       ले   आ !

                                                                    (2015)

                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दलीलों: तर्कों; नफ़ासत: सुगढ़ता; अना: घमंड; ग़ैरत: स्वाभिमान; मिज़ाजे-मुफ़लिसी: अपरिग्रही प्रवृत्ति; मरीज़े-तीरगी: अंधकार / नकारात्मकता / अ-कृत्य कर्म का रोगी; सफ़ूफ़े-चांदनी: चांदनी का चूर्ण; ज़ईफ़ी: वृद्धावस्था; कमसिनी: बाल्यावस्था; इलाजे-बेबसी: विवशता का उपचार; मुजस्स्म  नूर: संपूर्ण/समग्र प्रकाश, ईश्वर; सबूते-रौशनी: प्रकाश का प्रमाण। 


1 टिप्पणी:

  1. स्वप्निल जी अब आप एक किताब निकल ही दो...बहुत सुन्दर...एस युसुअल...

    उत्तर देंहटाएं