Translate

सोमवार, 29 दिसंबर 2014

गहरा कुहासा ...

यूं  ज़ुबां  फिसली  तमाशा  हो  गया
हर  हक़ीक़त  का  ख़ुलासा  हो  गया

बाम  पर  आकर  खड़े  वो  क्या  हुए
चांद  का  चेहरा  ज़रा-सा  हो  गया

ख़्वाब  में  तस्वीर  उनकी  देख  ली
चश्मे-तश्ना  को  दिलासा  हो  गया

दाम    आटे-दाल   के    इतने  बढ़े
क़र्ज़  में  नीलाम  कासा  हो  गया

शाह  मुजरिम  है  गुलों  के  क़त्ल  का
तितलियों  पर    इस्तगासा   हो  गया

उफ़ !  निज़ामे-स्याह  की  बदकारियां
अर्श  तक    गहरा  कुहासा    हो  गया

मज़हबी  तकरीर  सुन  कर  ख़ुल्द  में
दर्दे-सर    फिर    बेतहाशा    हो  गया  !

                                                              (2014)

                                                     -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: ज़ुबां: जिव्हा, शब्द; हक़ीक़त: यथार्थ, सच्चाई; ख़ुलासा: उद्घाटन; बाम: वातायन; चश्मे-तश्ना: तृषित नयन; दिलासा: सांत्वना, आश्वस्ति; दाम: मूल्य; क़र्ज़: ऋण; कासा: भिक्षा-पात्र; मुजरिम: अपराधी; गुलों: पुष्पों; क़त्ल: हत्या; इस्तगासा: वाद; निज़ामे-स्याह: अंधेर का राज्य; बदकारियां: कुकर्म; अर्श: आकाश; मज़हबी: धार्मिक; तकरीर: भाषण; ख़ुल्द: स्वर्ग; दर्दे-सर: सिर की पीड़ा; बेतहाशा: अत्यधिक, असीम ।

4 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (30-12-2014) को "रात बीता हुआ सवेरा है" (चर्चा अंक-1843) "रात बीता हुआ सवेरा है" (चर्चा अंक-1843) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...बहुत उम्दा अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं