Translate

रविवार, 28 सितंबर 2014

रेगिस्तान दिल का ...

ये  रेगिस्तान  दिल  का,  यां  समंदर  डूब  जाते  हैं
हमीं  हैं  जो  यहां  तक  भी  गुलों  को  खींच  लाते  हैं

तुम  आंखें  बंद  करके  आईने  में  ढूंढते  क्या  हो
हमारे  ख़्वाब  तो  दिल  में  तुम्हारे  झिलमिलाते  हैं

ख़्यालों  को  कभी  आज़ाद  रख  कर  भी  ग़ज़ल  कहिए
बह् र  की  क़ैद  से  अक्सर  परिंदे  भाग  जाते  हैं

सुना  तो  है  किसी  से,  आप  भी  मायूस  हैं  दिल  से
चले  आएं  यहां,  हम  आपको  नुस्ख़े   बताते  हैं

दिलों  को  लूटने  का  फ़न  कहीं  से  सीख  आते  हैं
यहां  आ  कर  हसीं  सब  दांव  हम  पर  आज़माते  हैं

यहां क्या  है,  वहां  जाओ  जहां  पर  हुस्न  अटका  है
यहां  पर  तो  ज़ईफ़ी  के  निशां  दिल  को  डराते  हैं

हमारी  गोर  को  सब  रौज़:-ए-दरवेश  कहते  हैं
फ़रिश्ते  भी  यहां  आ  कर  अदब  से  सर  झुकाते  हैं !       

                                                                                         (2014)

                                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: रेगिस्तान: मरुस्थल; समंदर: समुद्र; बह् र: छंद; क़ैद: कारा; परिंदे: पक्षी; मायूस: निराश; नुस्ख़ा: उपचार का उपाय; फ़न: कला; हसीं: सुंदर लोग; हुस्न: सौंदर्य; ज़ईफ़ी  के  निशां: वृद्धावस्था के चिह्न; गोर: क़ब्र, समाधि; रौज़:-ए-दरवेश: चमत्कारी सिद्ध व्यक्ति की दरगाह; अदब: सम्मान। 


5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (29-09-2014) को "आओ करें आराधना" (चर्चा मंच 1751) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    शारदेय नवरात्रों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 1 . 10 . 2014 दिन बुद्धवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    उत्तर देंहटाएं