Translate

रविवार, 6 जुलाई 2014

सलवटें पड़ जाएंगी ...

एक  मिसरा  भी  न  हो  जब  पास  में
क्या  ग़ज़ल  कहिए  हुज़ूरे-ख़ास  में

सिर्फ़  बिस्मिल  जानते  हैं  इश्क़  के
क्या  मज़ा  है  दर्द  के  एहसास  में

आए  हैं  वो  आज  पुरशिस  के  लिए
इक  तबस्सुम  है  नसीबे-यास  में

कल  यहां  कुछ  और  मुंसिफ़  बिक  गए
अब  कहां  इंसाफ़  इस  इजलास  में

आपका  भी  फ़र्ज़  है,  कुछ  कीजिए
दूरियां  पैदा  न  हों  इख़्लास    में

नाम  मिट  तो  जाएगा  दिल  से  मगर
सलवटें  पड़  जाएंगी  क़िरतास  में

दूर  करना  चाहते  हैं  वो  हमें
बाल  हो  जैसे  दिले-अलमास  में  !

                                                                         (2014)

                                                                  -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: मिसरा: पंक्ति; हुज़ूरे-ख़ास: विशिष्ट जन की गोष्ठी, दरबार; बिस्मिल: घायल; एहसास: अनुभूति; पुरशिस: हाल-चाल पूछना; तबस्सुम: स्मित, मुस्कान; नसीबे-यास: निराश व्यक्ति का प्रारब्ध; मुंसिफ़: न्यायाधीश; इजलास: अदालत; इख़्लास: मित्रता; 
क़िरतास: काग़ज़; बाल: दोष, केश जैसी दरार; दिले-अलमास: हीरे का हृदय, मध्य भाग।


7 टिप्‍पणियां:

  1. कल 08/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल यहां कुछ और मुंसिफ़ बिक गए
    अब कहां इंसाफ़ इस इजलास में ..

    लाजवाब शेर आपकी पुरसुकून ग़ज़ल का ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. नाम मिट तो जाएगा दिल से मगर
    सलवटें पड़ जाएंगी क़िरतास में
    ....लाज़वाब...बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं