Translate

शनिवार, 5 जुलाई 2014

ज़ीस्त मुमकिन है...

रंजो-ग़म  हर  नफ़्स  में  शामिल  सही
ज़ीस्त  मुमकिन  है,  भले  मुश्किल  सही

हम  गदा  बन  कर  खड़े  हैं  सामने
तू  अगर  ईमां   न  दे  तो  दिल  सही

चंद  लम्हे  लूट  कर  ले  जाएंगे
मौत  चाहे  आख़िरी  मंज़िल  सही

बेहतरी  की  फ़िक्र  कैसे  छोड़  दें
शाह  अपने  मुल्क  का  क़ातिल  सही

मात  ना-मंज़ूर  है  तूफ़ान  से
सामने  सुख-चैन  का  साहिल  सही

बात  हक़  की  ही  कहेंगे  ख़ुल्द  में
गो  ख़्याले-यार  में  ग़ाफ़िल  सही

इब्ने-आदम  को  न  मानेंगे  ख़ुदा
सूलियां  सच्चाई  का  हासिल  सही !

                                                          (2014)

                                                  -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: रंजो-ग़म: खेद और दुःख; नफ़्स: सांस; ज़ीस्त: जीवन; मुमकिन: संभव; गदा: भिक्षुक; ईमां: आस्था; चंद: चार; लम्हे: क्षण; 
मात: पराजय; साहिल: तट; हक़: न्याय; ख़ुल्द: ईश्वर का देश, स्वर्ग; गो: यद्यपि; ख़्याले-यार: प्रिय, ईश्वर का चिंतन; ग़ाफ़िल: असावधान; इब्ने-आदम: मनुष्य की संतान; हासिल: उपलब्धि, अभिप्राप्ति।

2 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है। बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 07/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर लिंक की गयी है...
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित हैं...आप के आगमन से हलचल की शोभा बढ़ेगी...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर...

    उत्तर देंहटाएं