Translate

सोमवार, 14 जुलाई 2014

क्या चाहते हैं आप...?

फूलों  से  वास्ता  न  चमन  से,  बहार  से
फिर  ज़िक्रे-हुस्न  कीजिए  किस एतबार  से ?

यूं  तो हमें  यक़ीं  है  तिरी  ज़ात  पर  मगर
तस्दीक़  ज़रूरी  है  किसी  राज़दार  से

सज्दा  करें,  सलाम  करें  या  दुआ  करें
क्या  चाहते  हैं  आप  दिले-बेक़रार  से ?

वो  आज  शहंशाह  सही,  हम  भी  क्या  करें
होता  नहीं  है  इश्क़  हमें   ताजदार  से !

सज्दे  में  हम  हों  और  वो  पर्दे  में  जा  रहें
ऐसा  सुलूक  ठीक  नहीं  दोस्त  यार  से  ! 

अल्लाह  से  कहें  कि  कहें  आईने  से  हम
उम्मीद  नहीं  और  किसी  ग़म-गुसार  से 

आएंगे,  तिरी  ख़ुल्द  भी  देखेंगे  किसी  दिन
फ़ुर्सत  कभी  मिले  जो  ग़मे-रोज़गार  से  !

                                                                           (2014)

                                                                   -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: ज़िक्रे-हुस्न: सौंदर्य-चर्चा; एतबार: विश्वास; ज़ात: अस्तित्व, व्यक्तित्व; तस्दीक़: पुष्टि; राज़दार: रहस्य जानने वाला, मर्मज्ञ; 
सज्दा: प्रणिपात; दिले-बेक़रार: विकल-मन व्यक्ति; ताजदार: मुकुट-धारी; ख़ुल्द: जन्नत, स्वर्ग; सुलूक: व्यवहार; दोस्त  यार: निकट मित्र ग़म-गुसार: दुःख समझने वाला; ग़मे-रोज़गार: आजीविका/ जीवन जीने  का दुःख।

2 टिप्‍पणियां:

  1. सज्दा करें, सलाम करें या दुआ करें
    क्या चाहते हैं आप दिले-बेक़रार से ?
    बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं