Translate

रविवार, 4 मई 2014

कहते हैं जिसे अश्क ...

चाहे       हमारे    मर्ग़     की    कोई    ख़बर     न  हो
मुमकिन  नहीं  कि  आपके  दिल  पर  असर  न  हो

हम  क्या  हुए  कि  खोल  के  रख  दें  न  दिल  अभी
वो:   यार   क्या  हुआ    कि  कभी    मोतबर   न  हो

कहते  हैं  जिसे  अश्क,   रग़-ए-दिल   का    है  लहू
टपके   ज़रूर    आंख    से,   प'  दर-ब-दर   न   हो  !

पीने    से     क़ब्ल      कौन     नमाज़ें     पढ़ा    करे
शायद    हमारे  जाम   में    बिल्कुल    ज़हर  न  हो

मांगी      तो    हैं    दुआएं      तेरे     वास्ते     मगर
तेरी    तरह   ख़ुदा     भी     कहीं    बेख़बर  न  हो  !

                                                                              ( 201 4 )

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ:  मर्ग़: निधन; मुमकिन: संभव; मोतबर: विश्वसनीय; अश्क: आंसू; रग़-ए-दिल: हृदय-तंतु; 
लहू: रक्त; दर-ब-दर: आश्रय-विहीन; क़ब्ल:पूर्व; जाम: मदिरा-पात्र ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. कल 18/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मांगी तो हैं दुआएं तेरे वास्ते मगर
    तेरी तरह ख़ुदा भी कहीं बेख़बर न हो ।

    बहोत खूब।

    उत्तर देंहटाएं