Translate

शनिवार, 5 अप्रैल 2014

अच्छी ख़बर ...!

लोग  अच्छी  ख़बर  से  डरते  हैं
क़िस्मतों  के  क़हर  से  डरते हैं

दुश्मनों  से  नहीं  हमें  पर्दा :
दोस्तों  की  नज़र  से  डरते हैं

आप  छू  दें  तो  सांप  मर  जाए
आप  किसके  ज़हर  से  डरते  हैं

एक-दो  तो  ज़रूर   हैवां  हैं 
आप  सारे  शहर  से  डरते  हैं

नाम  आतिश-फ़िशां  बताते  हैं
और  दाग़े-शरर  से  डरते  हैं

लोग   तो  बद्दुआ  से  डरते  हैं
हम  दुआ-ए-असर  से  डरते  हैं

नूर  के  ख़्वाब  देखने  वाले
दिल  ही  दिल  में  सहर  से  डरते  हैं !
 
                                                               (2014) 

                                                      -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: क़हर: प्रकोप;  हैवां; हैवान, पशु-स्वभाव वाले; आतिश-फ़िशां: ज्वालामुखी; दाग़े-शरर: चिंगारी का दाग़; 
बद्दुआ: श्राप; दुआ-ए-असर: प्रभावी शुभकामना; सहर: उष:काल । 

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर रचना...
    आपने लिखा....
    मैंने भी पढ़ा...
    हमारा प्रयास हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना...
    दिनांक 07/04/ 2014 की
    नयी पुरानी हलचल [हिंदी ब्लौग का एकमंच] पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...
    आप भी आना...औरों को बतलाना...हलचल में और भी बहुत कुछ है...
    हलचल में सभी का स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोज बहुत सी बुरी खबर के साथ एक आध अच्छी खबर आये तो सच आज के समय में उससे भी डर लगता है .. सोचते हैं इसके पीछे जाने क्या बात होगी ?
    ..बहुत बढ़िया सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  3. muhammad mohsin khan.......behad umda..

    लोग तो बद्दुआ से डरते हैं
    हम दुआ-ए-असर से डरते ह

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की स्‍थितियों पर ...''आप छू दें तो सांप मर जाए...'' बहुत ही खूबसूरती से आपने मौजूदा व्‍यवस्‍थाओं की बखिया उधेड़ी है, अौर सोने पै सुहागा ये कि नीचे शब्‍दार्थ भी दिये गये हैं...नये लोगों के लिए ये सुविधा देने के लिए धन्‍यवाद।

    उत्तर देंहटाएं