Translate

गुरुवार, 12 दिसंबर 2013

दावा पयम्बरी का ...!

ख़्वाब  अपना  ख़ता  न  हो  जाए
फिर  नया   हादसा   न   हो  जाए

दोस्त-एहबाब    फेर  लें     नज़रें
वक़्त    इतना    बुरा  न  हो जाए

भीड़     में     हुस्न      ढूंढने  वाले
दोस्त  से    सामना    न  हो  जाए

बाद   तर्के-वफ़ा    सलाम  न  कर
ज़ख़्म  फिर  से  हरा  न  हो  जाए

इश्क़  में  भी   वफ़ा  की  अफ़वाहें
ये:  सियासत   सज़ा  न  हो  जाए

आज     दावा      पयम्बरी  का  है
कल  कहीं   वो:  ख़ुदा  न  हो  जाए !

                                         

                                              ( 2013 )

                                       -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: ख़ता: अपराध; हादसा: दुर्घटना; दोस्त-एहबाब: मित्र-गण; बाद तर्के-वफ़ा: सम्बंध-विच्छेद के बाद; 
पयम्बर :ईश्वरीय सन्देश ले कर आने वाला देव-दूत।

1 टिप्पणी: