Translate

शनिवार, 19 अक्तूबर 2013

घर जला बैठे !

रहे-अज़ल  में  फ़रिश्ते   से  दिल  लगा  बैठे
विसाल  हो  न  सका  मग़फ़िरत  गंवा   बैठे

न  राहे-रास्त  लगा  रिंद    लाख  समझाया
ग़लत  जगह  पे  शैख़    हाथ  आज़मा   बैठे

ख़ुदा  को  रास  न  आया   बयान  शायर  का
सज़ाए-ज़ीस्त    सात   बार   की    सुना  बैठे

हमें  जहां  न  मिला  हम  जहां  को  मिल  न  सके
जहां-जहां      से    उठे     रास्ता    भुला  बैठे

हुआ  हबीब  से  रिश्ता    तो   खुल  गईं  रहें
ख़ुदा  को  याद  किया  और  घर  जला  बैठे !

                                                              ( 2013 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: रहे-अज़ल: मृत्यु-मार्ग; फ़रिश्ते: देवदूत; विसाल: मिलन; मग़फ़िरत: मोक्ष; राहे-रास्त: उचित मार्ग; 
रिंद: मद्यप; शैख़: उत्साही धर्मोपदेशक; सज़ाए-ज़ीस्त: जीवन-दंड;  हबीब: प्रेमी, गुरु, पीर। 

1 टिप्पणी:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कुछ खास है हम सभी में - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं