Translate

बुधवार, 23 अक्तूबर 2013

ख़ेराजे-अकीदत: मन्ना दा

                                                      ख़ेराजे-अकीदत: मन्ना  दा

हिंदी फिल्मों के अज़ीम-तरीन गुलूकार जनाब प्रबोध चन्द्र डे उर्फ़ मन्ना डे, अपने करोड़ों मुरीदों के दिल में मेयारी मक़ाम रखने वाले और हम सब के अज़ीज़ फ़नकार मन्ना दा आज अल-फ़जर दुनिया-ए-फ़ानी को अलविदा कह गए…। 'साझा आसमान' उस लाजवाब फ़नकार और लासानी इन्सान को तहे-दिल से अपनी ख़ेराजे-अक़ीदत पेश करता है:


                                       ग़ुरुब  हुआ  वो:  शम्से-मौसिक़ी  अल-सुब्हा 

                                      जिसकी  आवाज़  थी  अज़ां-ए-फ़जर  के मानिंद!


अलविदा,  मन्ना  दा ! अल्लाह आपकी रूह को अपने क़रीब जगह अता करे…. ! आमीन !


.

1 टिप्पणी:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन २४ अक्तूबर का दिन और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं