Translate

मंगलवार, 3 सितंबर 2013

शराफ़त की हद !

हम  तेरे  ख़्वाब  में  जब  से  आने  लगे
दोस्त     हम  से    निगाहें   चुराने  लगे

दी  हमीं ने  तुम्हें  दिलकशी  की  नज़र
तुम  हमीं  को    निशाना    बनाने  लगे

यार, ये:  तो  शराफ़त  की  हद  हो  गई
फिर    हमें    छेड़  के    मुस्कुराने  लगे

बेवक़ूफ़ी   हुई    जो   उन्हें   दिल  दिया
वो:      हमारा   तमाशा      बनाने  लगे

हाथ   पकड़ा   नहीं  था   अभी  ठीक  से
ज़ोर     सारा    लगा   के    छुड़ाने  लगे

शे'र  कहने  का  हमसे  हुनर  सीख  के
बुलबुलों   की    तरह    चहचहाने  लगे

ये:   असर  है  हमारा   के:  बस  बेख़ुदी
वो:    हमारी   ग़ज़ल    गुनगुनाने  लगे

                                               ( 2013 )

                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दिलकशी: चिताकर्षण; हुनर: कौशल; बेख़ुदी: आत्म-विस्मरण।

1 टिप्पणी:

  1. हाथ पकड़ा नहीं था अभी ठीक से
    ज़ोर सारा लगा के छुड़ाने लगे

    waaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं