Translate

सोमवार, 16 सितंबर 2013

ये: गुनाहों का घर

दिल     अगर    बेख़बर    नहीं  होता
दर्द        शामो-सहर        नहीं  होता

हुस्न      तेरा     अगर    करामत  है
हम  पे  क्यूं  कर   असर  नहीं  होता

जिस्म  रहता  जो  रूह  से  मिल  के
ये:   गुनाहों    का   घर     नहीं  होता

पास       आतीं      न     मंज़िलें  मेरे
तू     अगर     हमसफ़र   नहीं  होता

जो    न    होती    दुआ    बुज़ुर्गों  की
शे'र           ज़ेरे-बहर       नहीं  होता

जल्वागर  हैं   नज़र  में   रख  लीजे
मोजज़ा      उम्र    भर     नहीं  होता

दूर     रहते     अगर     सियासतदां
ख़ाक    दिल  का  शहर   नहीं  होता !

                                             ( 2013 )

                                      -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: करामत: चमत्कारी; ज़ेरे-बहर: छंद में; जल्वागर: प्रकट, दृश्यमान; मोजज़ा: चमत्कार; सियासतदां: राजनेता।

4 टिप्‍पणियां: