Translate

मंगलवार, 20 अगस्त 2013

वो बात कब हुई ?

मंज़ूर       मेरी      अर्ज़े-मुलाक़ात     कब  हुई
जो   पूछते  हो   तुम   के  मुनाजात  कब  हुई

मौसम   मेरी   तरह   सुख़न-नवाज़   तो  नहीं
क्या    पूछिए   हुज़ूर   के   बरसात    कब  हुई

मरते   रहे     ग़रीब    चमकता   रहा    बाज़ार
अह्दो-अमल    में   उसके  इंज़िबात  कब  हुई

तेरा    निज़ाम    है    फ़िदा     सरमाएदार    पे
मुफ़लिस   पे    तेरी   नज़्रे-इनायात   कब  हुई

इक़बाले-जुर्म    से   हमें     इनकार    तो  नहीं
जिस  बात  पे  ख़फ़ा  है  तू  वो  बात  कब  हुई ?

                                                                ( 2013 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: अर्ज़े-मुलाक़ात: भेंट की प्रार्थना; मुनाजात: पूजा-अर्चना; सुख़न-नवाज़: संवाद-प्रेमी; प्रतिज्ञा और आचरण; इंज़िबात: दृढ़ता; निज़ाम: प्रशासन;  सरमाएदार: पूंजीपति; मुफ़लिस: वंचित, निर्धन;   नज़्रे-इनायात: कृपा-दृष्टि; इक़बाले-जुर्म: अपराध-स्वीकार;  
ख़फ़ा: क्रोधित। 

1 टिप्पणी:

  1. सब प्यारा है बस "मुनाजात" में "ज" नीचे का नुक़्ता हटा दीजिये!
    http://meourmeriaavaaragee.blogspot.in/2013/08/blog-post_20.html

    उत्तर देंहटाएं