Translate

रविवार, 7 जुलाई 2013

मौत जीना सिखा दे...

आसमां  ही   दग़ा  दे   तो  मैं  क्या  करूं
बर्क़  घर  पे  गिरा  दे  तो  मैं  क्या  करूं

जो   कहा   मैंने    संजीदगी   से    कहा
वो:  लतीफ़ा  बना  दे  तो  मैं  क्या  करूं

हो  चुका   हूं    बहुत  दूर    मैं  इश्क़  से
कोई  ईमां   लुटा  दे    तो  मैं  क्या  करूं

जिसकी  दरियादिली  पे   हमें  नाज़  है
वो:  बहाना  बना  दे    तो  मैं  क्या  करूं

ख़ुदकुशी     की     हज़ारों    वजूहात  हैं
मौत  जीना सिखा दे  तो  मैं  क्या  करूं

अपनी   दीवानगी   की   ख़बर  है  मुझे
तू  मसीहा  बता  दे    तो  मैं  क्या  करूं

मैं   मदीने  में    बरसों    भटकता  रहा
कोई  झूठा  पता  दे  तो  मैं  क्या  करूं !

                                                    ( 2013 )

                                            -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: आसमां: विधाता; दग़ा: धोखा; बर्क़: आकाशीय बिजली; संजीदगी:गंभीरता; लतीफ़ा: चुटकुला; दरियादिली: विशाल-हृदयता; नाज़: गर्व; ख़ुदकुशी: आत्महत्या; वजूहात: ( वजह का बहुव.): कारण; दीवानगी: पागलपन; मसीहा: देवदूत।


6 टिप्‍पणियां:


  1. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 12-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [08.07.2013]
    चर्चामंच 1300 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...
    ख़ुदकुशी की हज़ारों वजूहात हैं
    मौत जीना सिखा दे तो मैं क्या करूं
    बेहतरीन ग़ज़ल...
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, बहुत खूब ,
    बेहतरीन प्रस्तुति.

    अयंगर

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं