Translate

सोमवार, 10 जून 2013

दस्तरख़्वान सजा है...

मैं  हूं  तू  है  और  ख़ुदा  है  अपना  घर
वाल्दैन  की  नेक  दुआ  है  अपना  घर

टूटे     और     थके-हारे    इंसानों    को
उम्मीदों  की  एक  शुआ  है  अपना  घर

शानो-शौक़त  इशरत  के  सामान  नहीं
मस्जिद-सा  सीधा-सादा  है  अपना  घर

दस्तरख़्वान  सजा  है  जो  है  हाज़िर  है
हर मुफ़लिस पर खुला हुआ है अपना घर

शाम-सुबह   जी  हल्का  करने   आते  हैं
दीवानों   ने    देख  रखा  है    अपना  घर

एहतराम  औ' इश्क़  रवायत  है  जिसकी
दुनियां  में   जाना-माना  है   अपना  घर।

व्हाइट हाउस से   दस जनपथ तक  शर्त्त  रही
हर  पैमाने  पर   अच्छा  है   अपना  घर !

                                                       ( 2013 )

                                                -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: वाल्दैन: माता-पिता; शुआ: किरण; शानो-शौक़त: ऐश्वर्य और समृद्धि;  इशरत: विलासिता; दस्तरख़्वान: सामूहिक भोजन हेतु बिछाया जाने वाला आसन; मुफ़लिस: विपन्न, निर्धन; एहतराम: सम्मान; रवायत: परंपरा।


2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ११ /६ /१ ३ के विशेष चर्चा मंच में शाम को राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी वहां आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं

  2. व्हाइट से दस जनपथ तक शर्त्त रही
    हर पैमाने पर अच्छा है अपना घर !- UMDA

    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    उत्तर देंहटाएं