Translate

मंगलवार, 21 मई 2013

कोई रास्ता न हो !

चाहे  किसी  के  दिल  में  किसी  की  वफ़ा  न  हो
लेकिन   जहां   में   कोई   मरीज़-ए-अना   न  हो

ऐसे     भी     बदनसीब     हुए    हैं    जहान     में
आंखों  में  जिनकी   कोई   कभी   भी  रहा  न  हो

हो   जाएं    आप   दूर   मगर   इस   तरह   न  हों
के:    वापसी   के   वक़्त     कोई   रास्ता   न   हो

वो:   अर्श  पर   रहें   हम   ख़ुश   हैं   ज़मीन   पर
दोनों   दिलों   के   बीच    मगर   फ़ासला   न   हो 

मेरा  ख़ुदा   वो:  शख़्स    तो   हो  ही  नहीं  सकता
जिसकी जबीं पे  लफ़्ज़-ए-मुहब्बत  लिखा  न  हो

मैं    वादी-ए-सीना    तक    आया   हूं   पाऊं-पाऊं
क्यूं   कर   मेरे   नसीब   में   वो:   मोजज़ा  न  हो

दिल     पे     तेरी     इनायतें     मंज़ूर     हैं    मुझे
लेकिन    मेरी    नमाज़    कभी   मुद्द'आ   न   हो !

                                                                     ( 2013 )

                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

2 टिप्‍पणियां:

  1. हो जाएं आप दूर मगर इस तरह न हों
    के: वापसी के वक़्त कोई रास्ता न हो............वाह बहुत खूब



    कुछ दूरियों के रस्ते, कभी साथ मिल कर नहीं चलते,
    हो जाए जो दिल में फांसले,वो कभी नहीं मिटते |.......अंजु(अनु)

    उत्तर देंहटाएं