Translate

बुधवार, 3 दिसंबर 2014

हमदम से हारे हैं !

हम  जब  भी  हारे,  मौसम  से  हारे  हैं
बिछड़े  अपनों  के  मातम  से  हारे  हैं

सहमे-सहमे    से    लगते  हैं  दरवाज़े
मेहमानों  के    रंजो-ग़म  से   हारे   हैं

गुलदस्तों  से,  पुरसिश  से,  हमदर्दी  से
दिल  के  ज़ख्म  कभी  मरहम  से  हारे  हैं ?

अपने-अपने     क़िस्से  हैं      रुसवाई  के 
हम  भी  तो  अक्सर  हमदम से  हारे  हैं !

गुमगश्ता  हैं  ख़्वाब  सफ़र  की  गर्दिश  में
तक़दीरों   के    पेचो - ख़म  से     हारे  हैं

कितने  ही    सरमायादारों   के     लश्कर 
मेहनतकश  हाथों   के    दम  से   हारे  हैं

ताजिर  आदमख़ोर  लहू  पी  जाते  हैं
ग़ुरबा  इस  क़ातिल  आलम  से  हारे  हैं !
                                                                           
                                                                                    (2014) 

                                                                           -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: मातम: शोक; रंजो-ग़म: खेद और दुःख; पुरसिश: पूछताछ; हमदर्दी: सहानुभूति; रुसवाई: अपमान; हमदम: साथी; 
गुमगश्ता: भटके हुए;  गर्दिश: भटकाव; पेचो - ख़म: मोड़ और जटिलता; सरमायादारों: पूंजीपतियों; लश्कर: सेनाएं; 
ताजिर: व्यापारी; आदमख़ोर: नरभक्षी; ग़ुरबा: निर्धन (बहुव.); आलम: परिस्थिति । 

1 टिप्पणी:

  1. लाजवाब...शब्दार्थ ज़रूरी हैं हम जैसों के लिये...

    उत्तर देंहटाएं