Translate

गुरुवार, 31 जुलाई 2014

दुआ ज़रूरी है !

दोस्ती  में  वफ़ा  ज़रूरी  है
ख़्वाहिशों  की  ख़ता  ज़रूरी  है

चोर  दिल  के  हों  या  निगाहों  के
मुजरिमों  को  सज़ा  ज़रूरी  है

मानी-ए-ज़िंदगी  समझने  को
मुफ़लिसी  का  मज़ा  ज़रूरी  है

मस्लके-इश्क़  के  मुजाहिद में
ज़ब्त  का  माद्दा  ज़रूरी  है

ये  जो  एहसास  की  तिजारत  है
इसमें  सबका  नफ़ा  ज़रूरी  है

रूह  जब  राह  से  भटक  जाए
तो  नया  फ़लसफ़ा  ज़रूरी  है

चाहिए  इक  सनम  इबादत  को
आशिक़ी  में  ख़ुदा  ज़रूरी  है

हम  चले  अर्श  की  ज़ियारत  पर
आपकी  भी  दुआ  ज़रूरी  है  !


                                                      (2014)

                                             -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: ख़्वाहिशों: इच्छाओं; ख़ता: अपराध, दोष; मुजरिमों: अपराधियों; मानी-ए-ज़िंदगी: जीवन का यथार्थ; मुफ़लिसी: निर्धनता, निस्पृहता; मस्लके-इश्क़: प्रेम का पंथ; मुजाहिद: धर्म-योद्धा; ज़ब्त: सहिष्णुता; माद्दा: सामर्थ्य; एहसास: भावनाएं; तिजारत: व्यापार, लेन-देन; नफ़ा: लाभ; फ़लसफ़ा: दर्शन, चिंतन; सनम: प्रिय पात्र; इबादत: पूजा; अर्श: आकाश, देवलोक; ज़ियारत: तीर्थयात्रा।

14 टिप्‍पणियां:

  1. हम चले अर्श की ज़ियारत पर
    आपकी भी दुआ ज़रूरी है !
    ..बहुत बढ़िया
    कभी कभी दुआ दवा का काम जो कर जाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 1 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (01.08.2014) को "हिन्दी मेरी पहचान " (चर्चा अंक-1692)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा ,एहसास का खजाना है \
    नई पोस्ट माँ है धरती !

    उत्तर देंहटाएं
  5. चोर दिल के हों या निगाहों के
    मुजरिमों को सज़ा ज़रूरी है
    .
    उम्दा ग़ज़ल / लाज़वाब शायरी
    हरेक शे'र क़ाबिले तारीफ़

    उत्तर देंहटाएं
  6. मानी-ए-ज़िंदगी समझने को
    मुफ़लिसी का मज़ा ज़रूरी है
    माना ,सभी का होना जरुरी है, उम्दा प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 03/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  8. रूह जब राह से भटक जाए
    तो नया फ़लसफ़ा ज़रूरी है
    ....वाह...बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    उत्तर देंहटाएं