Translate

शुक्रवार, 18 जुलाई 2014

चोट खाना ज़रूरी नहीं...

हमें  भूल  जाना  ज़रूरी  नहीं  है
बहाने  बनाना   ज़रूरी  नहीं  है

यक़ीं  है  हमें  आशिक़ी  पर  हमारी
उन्हें  आज़माना  ज़रूरी  नहीं  है

न  चाहें  तो  न  आएं  दिल  में  हमारे
मगर  दूर  जाना  ज़रूरी  नहीं  है

तजुर्बा  नया  भी  ज़रूरी  है  यूं  तो
नई  चोट  खाना  ज़रूरी  नहीं  है

दग़ाबाज़  से  दिल  लगाना  बुरा  है
नज़र  से  गिराना  ज़रूरी  नहीं  है

वही  कीजिए  जो  लगे  ठीक  दिल  को
ग़लत  हो  ज़माना  ज़रूरी  नहीं  है

किसी  से  कभी  मत  कहो  दर्द  अपना
ख़ुदा  से  छुपाना  ज़रूरी  नहीं  है  !


                                                                         (2014)

                                                                  -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: यक़ीं: विश्वास; आशिक़ी: प्रेम; तजुर्बा:प्रयोग, अनुभव; दग़ाबाज़: छल करने वाला।

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 20/07/2014 को "नव प्रभात" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1680 पर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 20/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. किसी से कभी मत कहो दर्द अपना
    ख़ुदा से छुपाना ज़रूरी नहीं है !
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं