Translate

सोमवार, 9 सितंबर 2013

क़ौम से दग़ा...

तमाम   उम्र    गुज़ारी  है     ये:  दुआ  करते
हमारे  दोस्त   किसी  रोज़  तो  वफ़ा  करते

कहीं    सुराग़  तो  पाएं     के:    ऐतबार  करें
वो:  इश्क़  में  हैं  तो  क्यूं कर  न  राब्ता  करते

हमें  उम्मीद  नहीं  अब  किसी  शिफ़ाई  की
तबीब  थक  चुके  हैं  मुल्क  की  दवा  करते

ये:  हुक्मराने-वतन  हैं  के:  दुश्मने-जां  हैं
ज़रा  भी  शर्म  नहीं  क़ौम  से  दग़ा  करते

उन्हें  क़ुसूर  न  दीजे  के:  बदगुमां  हैं  वो:
हमीं  को  वक़्त  नहीं  था  के:  आशना  करते

वहां  वो:  बज़्मे-दुश्मनां  में  पढ़  रहे  हैं  ग़ज़ल
यहां    तड़प   रहे  हैं    हम     ख़ुदा-ख़ुदा  करते

मेरे  शहर  में  नफ़रतों  के  बीज  मत  बोना
यहां  ज़मीं  में    असलहे    नहीं  उगा  करते  !

                                                              ( 2013 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: वफ़ा: निर्वाह; चिह्न, संकेत, सूत्र; ऐतबार: विश्वास; राब्ता: संपर्क; शिफ़ाई: आरोग्य; तबीब: चिकित्सक;
हुक्मराने-वतन: देश के शासक; दुश्मने-जां: प्राण-शत्रु; क़ौम: राष्ट्र; दग़ा: धोखाधड़ी; क़ुसूर: दोष; बदगुमां: भ्रमित, बहके हुए; 
आशना: संगी-साथी; बज़्मे-दुश्मनां: शत्रुओं के आयोजन, सभा; नफ़रतों: घृणाओं; असलहे: अस्त्र-शस्त्र।

3 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे शहर में नफ़रतों के बीज मत बोना
    यहां ज़मीं में असलहे नहीं उगा करते !bahut sunder aaj ke yug-bodh ko darpan deti kavita...gyan.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शुकरवार यानी 13 सितंबर 2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... ताकि आप की ये रचना अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है... आप इस हलचल में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...


    आप सब की कविताएं कविता मंच पर आमंत्रित है।
    हम आज भूल रहे हैं अपनी संस्कृति सभ्यता व अपना गौरवमयी इतिहास आप ही लिखिये हमारा अतीत के माध्यम से। ध्यान रहे रचना में किसी धर्म पर कटाक्ष नही होना चाहिये।
    इस के लिये आप को मात्रkuldeepsingpinku@gmail.com पर मिल भेजकर निमंत्रण लिंक प्राप्त करना है।



    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह रचना कल बुधवार (11-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 113 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
    सादर

    उत्तर देंहटाएं