Translate

गुरुवार, 8 अगस्त 2013

ख़ुदा याद आता है

करूं  मैं  याद  तुझे  तो  ख़ुदा  याद  आता  है
मगर ये हद  है  के  तू बारहा  याद  आता  है

हुआ  रक़ीब  मेरा   वो   तो    बा-ईमान  हुआ
के  बद्दुआ  में  भी  नामे-ख़ुदा  याद  आता  है

अज़ां-ए-फ़ज़िर से अज़ां-ए-इशा तक  मुझको
वादिए-सीन:  का  वो  मोजज़ा  याद  आता  है

तेरा  वो  सोज़े-सुख़न  वो  तेरा  अंदाज़े-बयां
हरेक  लफ़्ज़  पे  सौ  सौ  दफ़ा  याद  आता  है

सजा   जहाज़    मेरा     आ  गए  फ़रिश्ते  भी
सफ़र  के  वक़्त  तेरा  रास्ता  याद  आता  है !

                                                            ( 2013 )

                                                      -सुरेश  स्वप्निल

अर्थ-संदर्भ: बारहा: बार-बार; रक़ीब: शत्रु; बा-ईमान: आस्थावान;   बद्दुआ: अ-शुभेच्छा; अज़ां-ए-फ़ज़िर: सूर्योदय-पूर्व की अज़ान; दिन की पांचवीं और अंतिम अज़ान; वादिए-सीन: का  वो  मोजज़ा : सीना की घाटी में हज़रत मूसा अ.स. की पुकार पर ख़ुदा का जलवा होने का चमत्कार; सोज़े-सुख़न: साहित्यिक समझ; वक्तृत्व की शैली;   लफ़्ज़: शब्द;  जहाज़: अर्थी; फ़रिश्ते: मृत्यु-दूत; 

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 10/08/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह भैया ! बहुत ही उम्दा !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब लिखा.....

    शुक्रिया..

    अनु

    उत्तर देंहटाएं