Translate

बुधवार, 17 जुलाई 2013

मुख़ातिब मेरे ख़ुदा

दाग़  कुछ  दस्तयाब  हैं  मेरे
एक-दो   ही   सबाब  हैं  मेरे

क्या  करूं  मैं  के: मै  नहीं  छुटती
दोस्त  ख़ाना-ख़राब  हैं  मेरे

नेक  सरमाय:  हैं  बुज़ुर्गों  का
शे'र  यूं  लाजवाब  हैं  मेरे

नींद  आती  हुई   नहीं आती
दर-ब-दर    ख़्वाब    हैं  मेरे

आप कब तक दवा किया कीजे
रोग   तो   बे-हिसाब   हैं  मेरे

ज़िक्र  उठने  लगा  नशिस्तों  में
ज़ख़्म  फिर  बे-नक़ाब  हैं  मेरे

क़त्ल  हो  के  भी  सुर्ख़रू:  हूं  मैं
क़तर:-ए-ख़ूं  गुलाब  हैं  मेरे

हैं  मुख़ातिब  मेरे  ख़ुदा  मुझसे
अश्क  अब  कामयाब  हैं  मेरे !

                                         ( 2013 )

                                  -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दस्तयाब: हस्तगत; सबाब: पुण्य; मै: मदिरा; ख़ाना-ख़राब: अ-गृहस्थ; नेक  सरमाय: : पवित्र पूंजी; बुज़ुर्गों: पूर्वजों; दर-ब-दर: द्वार-द्वार भटकते; ज़िक्र: उल्लेख; नशिस्तों: गोष्ठियों; ज़ख़्म: घाव; बे-नक़ाब: अनावृत्त; सुर्ख़रू: : पूर्ण सफल; क़तर:-ए-ख़ूं: रक्त-कण; मुख़ातिब: संबोधित; अश्क: अश्रु।

2 टिप्‍पणियां:

  1. नींद आती हुई नहीं आती
    दर-ब-दर ख़्वाब हैं मेरे


    वाह बहुत खूब ....नींद का पूरा असर ख्याबों पर पड़ता है

    उत्तर देंहटाएं