Translate

मंगलवार, 4 जून 2013

मैं हूं और मेरी नमाज़

जानता    तो    था    तुझे    पर    जानता    ऐसे    न   था
तू     ख़ुदा     ही    है     मेरा    पहचानता     ऐसे    न   था

मैं    किताबों   की    दलीलों    में    उलझ   के   रह   गया
दिल   को   सब   मालूम   था    मैं    मानता   ऐसे  न  था

मैं    बहुत   मश्कूर   हूं    उस   दुश्मने-जां   का    के:  जो
दिल    में    रखता   था     हमेशा    चाहता   ऐसे   न   था

दीद  से  पहले  तेरी   मैं   कम  अज़  कम   मजनूं  न  था
दर   ब   दर   हो   के    तुझे    मैं    ढूंढता    ऐसे    न    था

था    बहुत   कुछ     आपकी-मेरी    नज़र   के    दरमियां
आपसे     मेरा     मुबारक     सिलसिला     ऐसे    न    था

मैं     मुक़ाबिल    हूं    ख़ुदा    के      और   तू    है   मुद्द'आ
मांगता   तो    दम   ब   दम    था    मांगता   ऐसे   न   था

अब  तो  ये:  आलम  है  के:  बस  मैं  हूं  और  मेरी  नमाज़
हिज्र    से    पहले     ख़ुदा    से     वास्ता     ऐसे    न    था  !

                                                                                   ( 2013 )

                                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ:   मश्कूर: आभारी; दुश्मने-जां: प्राणों का शत्रु, प्रिय के लिए प्रेमपूर्ण व्यंग्य; दीद: दर्शन; मजनूं: उन्मादी, पागल; दर ब दर: द्वारे-द्वारे;  दरमियां: मध्य में;  मुबारक: शुभ;   सिलसिला: स्नेह-बंध;  मुक़ाबिल: समक्ष;  मुद्द'आ: विषय; आलम: हाल; हिज्र: वियोग; वास्ता: जुड़ाव।
                                                                            

1 टिप्पणी:

  1. मैं किताबों की दलीलों में उलझ के रह गया
    दिल को सब मालूम था मैं मानता ऐसे न था

    वाह बहुत खूब

    दलीलों में उलझती,ये जिंदगी
    कुछ सवालों में फसती,ये जिंदगी
    क्यों कुछ सवालों के जवाब अधूरे हैं
    क्यों,सवालों के इंतज़ार में कटती,ये जिंदगी ||(अंजु(अनु)

    उत्तर देंहटाएं