Translate

शनिवार, 29 जून 2013

आशिक़ों की रहनुमांई

हो     रहे      उनसे    जुदाई   हो   रहे
फिर  मेरी   दुश्मन   ख़ुदाई   हो   रहे

और  भी  हैं  काम  अपनी  जान  को
क़ैदे-उल्फ़त    से     रिहाई   हो   रहे

इश्क़   में  चैनो-सुकूं  मुमकिन  नहीं
दर्दो-ग़म     से     आशनाई   हो   रहे

दिल  का  जब  नामो-निशां  ही  मिट  चुका
ख़ूब   खुल   कर   बेवफ़ाई   हो   रहे

है     मुबारक    मश्ग़ला-ए-रोज़गार
आशिक़ों    की    रहनुमांई   हो   रहे

मुन्तज़िर  हैं  आएं  वो: तो  जान  दें
रुख़्सती   में   मुंह-दिखाई    हो  रहे

आ  रहे  हैं  दफ़्न  को  हम  जल्द  ही
ग़ोर  की   अब  तो   सफ़ाई   हो  रहे

क्या  दिया  हमको  इबादत  ने  सिला
आसमां   से    भी    बुराई    हो  रहे !

                                                  ( 2013 )

                                           -सुरेश  स्वप्निल
                                   




2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा सोमवार [01-07-2013] को
    चर्चामंच 1293 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं