Translate

शनिवार, 25 मई 2013

ख़ुदा आज़मा रहा है !

सब्ज़   गलियां  दिखा  रहा  है   मुझे
क्यूं   ख़ुदा   आज़मा    रहा  है   मुझे

काश!   हमदम    कोई    क़रीब  रहे
सर्द   मौसम    सता   रहा   है   मुझे

शौक़-ए-तन्हाई  फिर  हुआ  दुश्मन
अंजुमन   से    उठा    रहा   है   मुझे

ग़मगुसारो     मुझे    मुआफ़    करो
फिर  नया  ग़म  बुला  रहा  है  मुझे

साक़ि-ए-शीश:बाज़    हंस-हंस   के
उंगलियों   पे   नचा   रहा   है   मुझे

दे   रहा   है    सिला    मुहब्बत  का
वो:   नज़र   से   गिरा  रहा  है  मुझे

हद  है  ज़ाहिद की  अक़्ल  तो  देखो
जाम   पीना   सिखा   रहा  है   मुझे !

                                                     ( 2013 )

                                               -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: सब्ज़  गलियां: सुखी नगर की गलियां, सुख के स्वप्न; शौक़-ए-तन्हाई: एकांतवास का व्यसन; अंजुमन: गोष्ठी, मित्र-समूह;            ग़मगुसारो: ( बहुव.): दुःख में सांत्वना देने वाले; साक़ि-ए-शीश:बाज़: बोतलों को उंगलियों पर नचा कर मद्य परोसने वाला; 
           सिला: प्रतिदान; ज़ाहिद: संयमी, सन्यासी।

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाहहहह...
    शानदार रचना...
    ज़ाम पीना सिखा रहा है मुझे...

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश! हमदम कोई क़रीब रहे
    सर्द मौसम सता रहा है मुझे

    वाह बहुत खूब जी






    उत्तर देंहटाएं