Translate

बुधवार, 17 जनवरी 2018

आसां -सी मुश्किल...

यूं  ही  हमको  दिल  मत  देना
आसां  सी  मुश्किल  मत  देना

कश्ती  तूफां  की  आशिक़  है
मिटने  को   साहिल  मत  देना

दुश्मन  वो:   जो    ईमां  ले  ले
कमज़र्फ़  मुक़ाबिल  मत  देना

मंज़िल  के  सदक़े     गर्म  लहू
सरसब्ज़   मराहिल   मत  देना

जम्हूर     बग़ावत     कर  देगा
उमरा   ना -क़ाबिल  मत  देना

सदियां    हम  पर  शर्मिंदा  हों
ऐसा    मुस्तक़बिल   मत  देना

हक़  से   लेंगे   लड़  कर   लेंगे
तोहफ़े  में   हासिल   मत  देना !

                                                              (2019)
                                                 
                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: आसां : सरल; कश्ती : नाव; तूफ़ां : झंझावात; आशिक़ : आसक्त; साहिल : तट; ईमां : आस्था; कमज़र्फ़ : ओछा; मुक़ाबिल : समक्ष, प्रतिद्वंदी; मंज़िल : लक्ष्य; सदक़े : न्यौछावर; लहू : रक्त; सरसब्ज़ : हरे -भरे , छायादार; मराहिल : विश्राम-स्थल; जम्हूर : लोकतंत्र; बग़ावत : विद्रोह; उमरा : मंत्रिगण; ना-क़ाबिल : अयोग्य; शर्मिंदा : लज्जित; मुस्तक़बिल : भविष्य; हक़ : अधिकार; तोहफ़े : उपहार; 
हासिल : अभिप्राप्ति।
                                                   

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें