Translate

शुक्रवार, 30 सितंबर 2016

हू ब हू क़िस्से ...

जंगजू  ख़्वाब  जंगजू  क़िस्से
लो  मियां  हो  गए  शुरू  क़िस्से

सुस्त  रफ़्तार  थी  हक़ीक़त  की
बन  गए  आज  जुस्तजू  क़िस्से

चंद  तब्दीलियां  ज़रूरी  हैं
कौन  दोहराए  हू  ब  हू  क़िस्से

नंग(ए)तहज़ीब  का  ज़माना  है
तो  उड़ें  क्यूं  न  चारसू  क़िस्से

काश ! रहती  ज़ुबान  क़ाबू  में
ले  गए  घर  की  आबरू  क़िस्से

कोई  ख़ामोशियां  बचा  रक्खे
पी  चुके  हैं  बहुत  लहू  क़िस्से


बाग़े  जन्नत  में  ख़ौफ़  तारी  है
कर  गए  क़त्ल  रंगो-बू  किस्से  !

                                                             (2016)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: जंगजू : युद्धोन्मादी, आक्रामक; क़िस्से : आख्यान, कथा, मिथक; रफ़्तार : गति; हक़ीक़त : यथार्थ; जुस्तजू: खोज; तब्दीलियां : परिवर्त्तन; हू ब हू : यथावत; नंग(ए)तहज़ीब : सभ्यता का अभाव; चारसू : चारों ओर; क़ाबू : नियंत्रण; आबरू : सम्मान; ख़ामोशियां : मौन, शांति; लहू : रक्त; बाग़े  जन्नत : स्वर्ग का उद्यान; ख़ौफ़ : भय, आतंक; तारी : व्याप्त ।


1 टिप्पणी:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "भाखड़ा नंगल डैम पर निबंध - ब्लॉग बुलेटिन“ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं