Translate

शनिवार, 5 दिसंबर 2015

चंद क़दमों का सफ़र...

हम  जहां  मंसूरियत  पर  आ  गए
कुछ  क़रीबी  दोस्त  भी  कतरा  गए

जी,  कहा  हमने  'अनलहक़'  ख़ुल्द  में
सूलियां  लेकर  फ़रिश्ते  आ  गए

अब  न  कोहे-तूर  ना  उसके  निशां
कौन  मानेगा  झलक  दिखला  गए ?

क्या  उन्हें  घर  पर  बुलाना  ठीक  है
सीन:  में  जो  कोह  तक  पिघला  गए  !

नाम  उनका  पूछते  कैसे,   मियां
जो  वफ़ा  के  ज़िक्र  पर  ग़श  खा  गए  !

ख़ूब  ग़ालिब  ने  हमें  इस्लाह  की
मयपरस्ती  का  सबक़  सिखला  गए

चंद  क़दमों  का  सफ़र  है  ज़िंदगी
आप  आधी  राह  में  पछता  गए  ?!

                                                                              (2015)

                                                                     -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: मंसूरियत: हज़रत मंसूर अ. स. का मत, अद्वैतवाद का इस्लामी स्वरूप; 'अनलहक़':'अहं ब्रह्मास्मि', हज़रत मंसूर अ.स. का उद्घोष, जिसके कारण उन्हें सूली पर चढ़ा दिया गया था; ख़ुल्द:स्वर्ग; फ़रिश्ते: देवदूत, मृत्युदूत; कोहे-तूर: अरब की सीना घाटी में स्थित 'तूर' (काला) नामक एक मिथकीय पर्वत, मिथक के अनुसार वहां हज़रत मूसा अ.स. को अल्लाह ने अपनी झलक दिखाई थी; निशां : चिह्न; कोह: पर्वत; वफ़ा:निष्ठा; ज़िक्र:उल्लेख; ग़ालिब:हज़रत मिर्ज़ा ग़ालिब, उर्दू के महानतम शायर; इस्लाह:परामर्श, शिक्षा; मदिरापान; सबक़:पाठ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 06/12/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर... लिंक की जा रही है...
    इस चर्चा में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...


    उत्तर देंहटाएं