Translate

रविवार, 22 नवंबर 2015

वक़ार की ख़ातिर

सर  उठाओ   बहार  की  ख़ातिर
ख़्वाब  पर  एतबार  की  ख़ातिर

मुल्क  के    नौजवां    परेशां  हैं
मुस्तक़िल  रोज़गार  की  ख़ातिर

पैदलों  को  हलाक़  मत  कीजे
लश्करे-शहसवार  की  ख़ातिर

सरफिरे  लोग   जां  लुटाते  हैं
शाह  के  इक़्तेदार  की  ख़ातिर

मुफ़्त  में  सर  न  काटिए  अपना
आशिक़ी  के  वक़ार   की  ख़ातिर

शाह  की  जूतियां  उठाएं  क्या
शायरी  में  मेयार  की  ख़ातिर ?!

दौड़  कर  अर्श  से  चले  आए
लोग  दीदारे-यार  की  ख़ातिर !

                                                                             (2015)

                                                                      -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: बहार:बसंत; ख़ातिर:हेतु; एतबार:विश्वास, आस्था; मुस्तक़िल : स्थायी;  रोज़गार : आजीविका; हलाक़ : वध, हत्या; लश्करे-शहसवार : अश्वारोही सैन्य दल; सरफिरे : मनोरोगी; इक़्तेदार : सत्ता; वक़ार: प्रतिष्ठा; मेयार: उच्च स्थान।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 23 नवम्बबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं