Translate

मंगलवार, 15 सितंबर 2015

मेहमान हैं मुहाज़िर...

दहक़ां  की  ख़ुदकुशी  का  किसको  मलाल  है
लाशा     धधक     रहा   है    ज़िंदा   सवाल  है

ताजिर    सुंघा    रहे   हैं    जूता    अवाम   को
गाहक  गुज़र  न   जाए    इसका    ख़्याल  है

वो    अक्सरीयतों    पर    इठला    रहे  हैं   यूं
तुर्रे  में   शाह  के  ज्यों   'अन्क़ा  का   बाल  है

ये-वो  कि  आप    सब  पर    कुर्सी   सवार  है
सय्याद  के   बदन  पर   दुम्बे  की   ख़ाल  है

जन्नत    बना   रहा  है    शद्दाद    मुल्क  को
कल  तक  हराम  था  जो   अब  वो  हलाल  है

रोके   न  रुक  सकेगी    मेंहगाई    रिज़्क़  की
सरकार   की     रग़ों     में      ख़ूने-दलाल    है

मेहमान   हैं    मुहाज़िर     दहक़ान   ख़ुल्द  में 
घर-ख़र्च    से    ख़ुदा    का    जीना   मुहाल  है  !

                                                                                              (2015)

                                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: दहक़ां: कृषक गण; ख़ुदकुशी: आत्म-हत्या; मलाल: खेद, दुःख; लाशा: शव; ताजिर: व्यापारी; अवाम:जन-सामान्य; 
गाहक: ग्राहक; अक्सरीयतों: बहुमतों; तुर्रा: मुकुट में लगाया जाने वाला फुंदना;  'अन्क़ा: एक काल्पनिक पक्षी; सय्याद: आखेटक; 
दुम्बा: भेड़; जन्नत: स्वर्ग; शद्दाद: एक मिथकीय, ईश्वर-द्रोही राजा, जिसने कृत्रिम स्वर्ग का निर्माण कराया था; हराम: अपवित्र, धर्म-विरुद्ध; हलाल: धर्म-सम्मत; रिज़्क़: खाद्य-पदार्थ; रग़ों: रक्त-वाहिकाओं; ख़ूने-दलाल: कूट-मध्यस्थ का रक्त;  मुहाज़िर: शरणार्थी; ख़ुल्द: स्वर्ग; मुहाल: अत्यधिक कठिन । 

1 टिप्पणी:

  1. रोके न रुक सकेगी मेंहगाई रिज़्क़ की
    सरकार की रग़ों में ख़ूने-दलाल है
    मेहमान हैं मुहाज़िर दहक़ान ख़ुल्द में
    घर-ख़र्च से ख़ुदा का जीना मुहाल है !
    .... बहुत सटीक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं