Translate

रविवार, 17 मई 2015

क़ातिल तेरा निज़ाम...

कब  तक   तेरी  अना  से   मेरा  सर  बचा  रहे
ये  भी  तो  कम  नहीं  कि  मेरा  घर  बचा  रहे

मुफ़्लिस  को   शबे-वस्ल  पशेमां   न  कीजिए
मेहमां  के    एहतेराम  को    बिस्तर  बचा  रहे

रहियो    मेरे   क़रीब,     मेरे  घर   के   सामने
कुछ  तो  कहीं   निगाह  को   बेहतर  बचा  रहे

बेशक़   दिले-ख़ुदा  में   ज़रा  भी   रहम  न  हो
आंखों   में    आदमी   की    समंदर    बचा  रहे

मस्जिद न मुअज़्ज़िन  न ख़ुदा  हो  कहीं  मगर
मस्जूद    की     निगाह   में    मिंबर   बचा  रहे

शाहों  का  बस  चले  तो  ख़ुदा  की  कसम  मियां
क़ारीं     बचें     कहीं,    न   ये   शायर    बचा  रहे

क़ातिल  !   तेरा  निज़ाम   बदल  कर   दिखाएंगे
सीने   में   आग,    हाथ   में    पत्थर    बचा  रहे !

                                                                                         (2015)

                                                                                  -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: अना: अहंकार; मुफ़्लिस: विपन्न; शबे-वस्ल: मिलन-निशा; पशेमां: लज्जित; मेहमां: अतिथि; एहतेराम: सम्मान, सत्कार; रहम:दया; मुअज़्ज़िन: अज़ान देने वाला; मस्जूद: सज्दे  में (नतमस्तक) बैठा व्यक्ति; मिंबर: वह पत्थर जिस पर खड़े होकर पेश इमाम नमाज़ पढ़ाते हैं; क़ारीं: पाठक गण; निज़ाम: शासन।


2 टिप्‍पणियां:

  1. क़ातिल ! तेरा निज़ाम बदल कर दिखाएंगे
    सीने में आग, हाथ में पत्थर बचा रहे !


    क्या खूब , क्या खूब.. उम्दा

    उत्तर देंहटाएं