Translate

बुधवार, 8 अक्तूबर 2014

मंहगाई का गहन ...

कल-आज  क़त्ले-आम  का  त्यौहार  तो  नहीं ?
शैतान    कहीं     शाह  पर     सवार  तो  नहीं  ?

सोते  न  जागते  हैं  न  खाते  हैं  चैन  से
फिर  इश्क़  में  जनाब  गिरफ़्तार  तो  नहीं  ?

बेशक़,  हम  आसमां  से  दिले-हूर  ले  उड़े
लेकिन  हम  आपके  भी  गुनहगार  तो नहीं ?

हर  जिन्स  को  लगा  है  मंहगाई  का  गहन
जम्हूर  है,  अवाम  की  सरकार  तो  नहीं  ! 

कहने  को  कह  रहे  हैं  बहुत  कुछ  तमाम  लोग
हालात    बदल  जाएं    ये    आसार  तो  नहीं 

तेवर     ज़रूर     सख़्त   रहे  हों     कभी-कभी 
अफ़सोस !  क़लम  कारगर  हथियार  तो  नहीं !

मुफ़लिस  सही,  फ़क़ीर  सही,  दर-ब-दर  सही
शाही     इनायतों   के     तलबगार     तो  नहीं !

जायज़  है  हक़  हमारा  सुख़न  की  ज़मीन  पर
क़ाबिज़  हैं   जहां  हम,     किराएदार    तो  नहीं  !

अल्लाह    तय  करे    कि  रखेगा     कहां  हमें
हम      मिन्नते-हुज़ूर   को     तैयार   तो  नहीं  !

                                                                         (2014)

                                                                -सुरेश  स्वप्निल

शब्दार्थ: क़त्ले-आम: जन-संहार; दिले-हूर: अप्सरा का हृदय; गुनहगार: अपराधी; जिन्स: उत्पाद, वस्तु; गहन: ग्रहण; जम्हूर: लोकतंत्र; अवाम: जन-साधारण; हालात: परिस्थितियां; आसार: संकेत; तेवर: मुद्राएं; कारगर: प्रभावी; मुफ़लिस: निर्धन; फ़क़ीर: अकिंचन, साधु, भिक्षुक; दर-ब-दर: यहां-वहां भटकने वाला, गृह-विहीन; इनायतों: कृपाओं; तलबगार: अभिलाषी; जायज़: उचित, वैध; हक़: अधिकार; सुख़न: सृजन; क़ाबिज़:आधिपत्य जमाए; मिन्नते-हुज़ूर: ईश्वर की चिरौरी। 


6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब !
    कृपया मेरे ब्लॉग पर आये
    और फॉलो करके अपने सुझाव दे !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 9/10/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    उत्तर देंहटाएं
  3. जायज़ है हक़ हमारा सुख़न की ज़मीन पर
    क़ाबिज़ हैं जहां हम, किराएदार तो नहीं ! ----- वाह भाई जी बेहद उम्दा और प्रभावी गजल
    बहुत सुंदर ---
    उत्कृष्ट
    सादर

    आग्रह है ---- मेरे ब्लॉग में भी पधारें
    शरद का चाँद -------

    उत्तर देंहटाएं
  4. अल्लाह तय करे कि रखेगा कहां हमें
    हम मिन्नते-हुज़ूर को तैयार तो नहीं !
    ...बहुत सही..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन।।। बेहद।।। बोलती हुयी

    उत्तर देंहटाएं