Translate

शनिवार, 7 सितंबर 2013

रुख़ बदल ही गया ...

ज़ब्त    करते  हैं   मुस्कुराते  हैं
हिज्र  में   भी   वफ़ा  निभाते  हैं

हम  किसी  को  दग़ा  नहीं  देते
सब  यही    फ़ायदा    उठाते  हैं

ख़ाक़  हो  जाएं  तो   होने  दीजे
आप  ही   तो    हमें  जलाते  हैं

हम   हक़ीक़त-पसंद   हैं  यारों
वक़्त  को   आइना  दिखाते  हैं

नींद  आने   लगी    हमें  जबसे 
ख़्वाब आ-आ  के लौट  जाते  हैं

रुख़ बदल ही गया  हवाओं  का
रूठ  के    वो:    हमें  मनाते  हैं

जिसको बंदों की फ़िक्र होती  है
हम  उसी  को   ख़ुदा  बताते  हैं  !

                                         ( 2013 )

                                  -सुरेश  स्वप्निल 

शब्दार्थ: ज़ब्त: संयम; हिज्र: वियोग; वफ़ा: आस्था; दग़ा: धोखा; ख़ाक़: राख;  हक़ीक़त-पसंद: यथार्थवादी;  
 मुद्द'आ: विवाद का विषय; रुख़: दिशा;  बंदों: भक्तों। 

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - सोमवार - 09/09/2013 को
    जाग उठा है हिन्दुस्तान ... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः15 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [09.09.2013]
    चर्चामंच 1363 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. नींद आने लगी हमें जबसे
    ख़्वाब आ-आ के लौट जाते हैं...
    sundar

    उत्तर देंहटाएं